{100+} War quotes in Hindi – युद्ध पर अनमोल वचन

दुनिया के सारे संगठन
अप्रभावी हो जायेंगे यदि

यह सत्य कि प्रेम द्वेष से शक्तिशाली
होता है उन्हें प्रेरित नही करता.


हजार लड़ाई जीतने से अच्छा है
अपने आप को जीतना.
फिर जीत तुम्हारी है.

इसे तुमसे कोई नहीं ले सकता न ही
स्वर्गदूतों द्वारा न ही राक्षसों द्वारा,
न ही स्वर्ग या नरक में.


अगली दुनिया में हम सेनापतियों से

ज्यादा चिकित्सकों को लोगों की

जिंदगियों के लिए जवाब देना होगा.


एक सिपाही एक रंगीन रिबन

के लिए दिलो जान से लडेगा.


युद्ध के लिए तैयार रहना

शांति बनाये रखने के सबसे

प्रभावी साधनों में से एक है .


जो लोग हमसे पूछते हैं कि हम
कब पाकिस्तान से वार्ता करेंगे

वो शायद ये नहीं जानते कि
पिछले 55 सालों में पाकिस्तान से
बातचीत करने के सभी
प्रयत्न भारत की तरफ से ही आये हैं .


यूनीवर्सल एजुकेशन सबसे अधिक
नुक्सान पहुंचाने वाला ज़हर है

जिसका उदारवाद ने अपने
विनाश के लिए आविष्कार किया है .


किसी देश का नाश केवल जूनून के
तूफ़ान से रोका जा सकता है ,

लेकिन केवल वो जो खुद जुनूनी होते हैं
दूसरों में जूनून पैदा कर सकते हैं .


जर्मनी या तो एक विश्व-शक्ति

होगा या फिर होगा ही नहीं.


झूठी लड़ाई में कोई

सच्ची वीरता नहीं होती.


हे अर्जुन, केवल भाग्यशाली योद्धा ही

ऐसा युद्ध लड़ने का अवसर पाते हैं

जो स्वर्ग के द्वार के सामान है.


मेरी पहली इच्छा मानवजाति के प्लेग ,

युद्ध को इस धरती से ख़त्म करने की है .


अनुभव हमें सिखाता है कि कब्ज़ा जमाने के

बाद दुश्मन को हटाने की तुलना में उसे

कब्ज़ा करने से रोकना कहीं आसान है.


जो कोई भी यूरोप में
युद्ध की मशाल जलाता है

वो कुछ और नहीं बस अराजकता
की कामना कर सकता है .


सफलता की सबसे पहली आवश्यकता

हिंसा का नियमित और निरंतर नियोजन है .


शक्ति बचाव में नहीं

आक्रमण में निहित है .


जनरलस सोचते हैं कि युद्ध मध्य युग की
खेल-कूद प्रतियोगिताएं की
तरह छेड़े जाने चाहिए .

मुझे शूरवीरों का कोई काम नहीं है ;
मुझे क्रांतिकारी चाहियें .


हर देश खुद को और देशों से बेहतर समझता है.

इसी से देशभक्ति आती है- और युद्ध भी.


इतिहास कुछ भी नहीं करता .
उसके पास आपार धन नहीं होता ,
वो लड़ियाँ नहीं लड़ता .

वो तो मनुष्य हैं, वास्तविक ,
जीवित , जो ये सब करते हैं .


जब हमने सैनिकों की कल्पना की तो

हमने नागरिकों को एक तरफ नहीं रख दिया .

Facebook Comments
Pages ( 1 of 4 ): 1 234Next »