Funny Insult Shayari For Friends – दोस्तों पर मजेदार शायरी

दिल की तमन्ना है कि मैं भी,
अपनी पलकों पे बैठाऊँ तुझको,
बस तू अपना वजन कम करले,
तो पलकों पर बिठा लूँ तुझको।


इस दिल को तो एक बार को,
बहला कर चुप करा लूँगा,
पर इस दिमाग का क्या करूँ,
जिसका तुमने दही कर दिया है।


आसमान जितना नीला है,
सूरजमुखी जितना पीला है,
पानी जितना गीला है,
आपका स्क्रू उतना ही ढीला है।


शाम होते ही ये दिल उदास होता है,
टूटे ख्वाबों के सिवा कुछ न पास होता है,
तुम्हरी याद ऐसे वक़्त बहुत आती है,
जब कोई बन्दर आस-पास होता है।


इतना खुबसूरत कैसे मुस्कुरा लेते हो,
इतना कातिल कैसे शरमा लेते हो,
कितनी आसानी से जान ले लेते हो,
किसी ने सिखाया है…
या बचपन से ही कमीने हो?


तू कहे तो चाँद तारे तोड़ दूँ,
तू कहे तो ये दुनिया छोड़ दूँ,
तू एक बार हँस के देख मेरे दोस्त,
तेरे सारे गंदे दांत तोड़ दूँ।


क्या मस्त मौसम आया है,
हर तरफ पानी ही पानी लाया है,
तुम घर से बाहर मत निकलना,
वर्ना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं
और मेंढक निकल आया है।


दुआ करते हैं हम खुदा से,
के वो आप जैसा दोस्त और न बनाये,
एक कार्टून जैसी चीज है हमारे पास,
कहीं वो भी कॉमन न हो जाये।


आसमान जितना नीला हैं,
सूरजमुखी जितना पीला हैं,
पानी जितना गीला हैं,
आपका स्क्रू उतना ही ढीला हैं।


पानी आने की बात करते हो,
दिल जलाने की बात करते हो,
चार दिन से मुंह नहीं धोया,
तुम नहाने की बात करते हो।


शाम होते ही ये दिल उदास होता है,
टूटे ख्वाबों के सिवा कुछ न पास होता है,
तुम्हारी याद ऐसे वक़्त बहुत आती है,
जब कोई बंदर आस पास होता है।


इस दिल को तो एक बार को,
बहला कर चुप करा लूँगा,
पर इस दिमाग का क्या करूँ,
जिसका तुमने दही कर दिया है।


जी करता हैं तेरे पास आउँ,
तेरे पास आकर रूक जाउँ,
न बैठू, न बोलूँ
अब तेरी इन मदहोश आँखों में,
संतरे का छिलका निचोड़ के भाग जाउँ।


चाँद से रौशनी ज्यादा
और सितारों से कम निकले,
जब भी मैं तुझे देखूं
मेरा हंस हंस के दम निकले।


आखों से आसुओं की विदाई कर दो,
दिल से ग़मों की जुदाई कर दो,
गर फिर भी दिल न लगे कहीं,
तो मेरे घर की पुताई कर दो।


जब तू होती थी मेरी जिन्दगी में
तो तेरे मेरे इश्क के चर्चे बहुत थे,
अच्छा ही हुआ जिन्दगी से चली गयी तू
क्योकि तेरे खर्चे ही बहुत थे।

Facebook Comments