भारत एक महान देश है, इसकी महानता का सबसे बड़ा उदाहरण इसका इतिहास रहा है | भारत का इतिहास महान होने के साथ साथ कई चमत्कारों और रहस्यों को खुद में समेटे हुए है | यहाँ ऐसे-ऐसे चमत्कारिक लोग और घटनाएँ हुईं हैं जिन्होंने कि दुनिया भर को अचरज़ में डाल दिया | आज हम आपको Incredible India Facts के बारे में बताएंगे जिन्हें जानकार आप विश्वास नही कर पायेंगे कि वाकई एसी चीज़ें दुनियां में हैं और वो भी अपने देश में | लेकिन यकीन मानिए ये सभी सत्य हैं और दुनियाँभर में अपनी विशेषता और आश्चर्य के लिए जानी जाती हैं |

incredible-india-facts

 

-: अतुलनीय भारत : 18 चमत्कारिक तथ्य जो आपको आश्चर्यचकित कर देंगे :-

 

  • Magnet Hill, Laddakh

Magnetic_Hill_Point_compressed
लद्दाख में समुद्र तल से लगभग 1100 हज़ार फीट ऊँचाई पर स्थित एक स्थान जिसे कि magnet hill  के नाम से जाना जाता है काफी रहस्यमयी जगह है | पहाड़ी का गुरुत्वाकर्षण या चुम्बकत्व इतना अधिक है कि धातु की बनी कोई चीज़ अथवा वाहन इत्यादि बंद होने पर भी लगभग २० किमी/घंटा की गति से ऊपर की ओर चलते चले जाते हैं | इस जगह को हिमालय का आश्चर्य भी कहा जाता है |

  • Asoka’s Nine Illuminati

ashoka illuminati_compressed

सम्राट अशोक ने अपनी नौ पुस्तकें जिनमे कि : मनोवैज्ञानिक संघर्ष और प्रचार प्रसार , मृत्यु स्पर्श और शरीर क्रिया विज्ञान , सूक्ष्म जैविकी , रसायन शास्त्र, अलौकिक संचार-व्यवस्था , गुरुत्वाकर्षण और गुरुत्व-विरोधी यन्त्र (जैसे कि- विमान प्राचीन उड़न तश्तरी इत्यादि) , ब्रह्माण्ड विज्ञान और समय-यात्रा (Time Travel) , प्रकाश और प्रकाश गति रूपान्तरण ,  समाजशास्त्र, साम्राज्यों का उदय और अस्त के सम्बन्ध में पूर्ण विवरण था | अशोक नहीं चाहते थे कि एसी जानकारी किसी गलत हाथों में पड़े और मनुष्य जाति खतरे में पड जाए तो इसलिए उन्होंने ये पुस्तकें अपने नौ भरोसेमंद लोगों को दीं और पीढीयों दर पीढियों तक ज्ञान पहुँचाने और समाज सुरक्षा का जिम्मा उन्हें सौंपा |कहा जाता है कि यह नौ लोगों की समिति अब भी है और मानव जाति की सेवा व सुरक्षा में कार्यरत है | पश्चिमी सभ्यता के अनुसार वे सभी नौ लोग भारतीय नहीं थे पोप सिल्वेस्टर द्वितीय उनमे से एक बताए गए हैं |

  • Roopkund Lake, Chamoli

Human_Skeletons_in_Roopkund_Lake_compressed

हिमालय की गोद में उत्तराखंड के चमोली में स्थित सबसे भयवाह स्थान रूपकुंड झील है | इस जगह के पीछे का रहस्य ही लोगों को बुरी तरह से डरा देता है | जब भी बर्फ पिघलती है तो तीन सौ से छः सौ के लगभग नर कंकाल प्रति वर्ष इस झील में पाए जाते हैं | कोई नहीं जानता कि ये नरकंकाल कहाँ से आते हैं , रेडियोकार्बन जांच करने पर पता चला कि ये कंकाल लगभग 15 वीं शताब्दी के हैं | सर्वप्रथम 1942 में यहाँ से नरकंकाल बरामद किये गए थे तब लोगों ने इसे किसी न्रशंश हत्याकांड का नाम देकर नज़र अंदाज़ कर दिया था परन्तु फोरेंसिक जांच इत्यादि के बाद पता चलता है कि ये नरकंकाल 9 वीं शताब्दी के थे |

  • Iron Piller, Dehli

Iron_Pillar,_Delhi_compressed
दिल्ली के पास महरौली में स्थित लौह स्तंभ जोकि लगभग 1600 वर्ष पुराना है, आश्चर्य का विषय बना हुआ है | सात मीटर लंबे इस स्तंभ की धातु में जंग प्रतिरोधक क्षमता है | कई बड़े बड़े वैज्ञानिकों ने इसके टेस्ट लिए अथवा काफी जाँच की और वे काफी भौचक्के रह गए इस बात से कि इतने वर्षों पहले लोग इस प्रकार के अग्र-रासायनिक धातु बनाने में कैसे कामयाब रहे |

  • Hanging Piller, Andhra Pradesh

Hanging_Pillar_compressed

आंध्र प्रदेश के अनंतपुर में स्थित लेपक्षी मंदिर में लगभग सत्तर स्तंभ हैं जिन पर कि यह मंदिर सालों से टिका हुआ है , परन्तु इनमें से एक स्तंभ ऐसा भी है जोकि जमीन पर टिका हुआ नहीं है | यह स्तम्भ जमीन से लगभग 2-3 इंच ऊपर हवा में लटका हुआ है  और सालों से अपनी इसी खासियत कि वजह से चर्चा और विस्मय का विषय बना हुआ है |

यह भी पढ़ें :   10 सर्वाधिक लोकप्रिय सोशल नेटवर्किंग साइट्स | 10 Most Popular Social Networking Sites

 

  • Bada Imambara, Lucknow

Bhool_Bhulaiya.._compressed

कल्पना करें एक ऐसे बड़े हॉल की जोकि पचास मीटर लंबा और पन्द्रह मीटर चौड़ा हो और बिना किसी खम्बे और बाह्य सहारे के मानो हवा में ही टिका हो ? मुश्किल लगता है न लेकिन नामुमकिन नहीं क्यों कि एक एसी ही जगह है उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जोकि बड़ा इमामबाडा नाम से जानी जाती है | यह स्थान गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत को चुनौती देने वाले स्थानों में सबसे ऊपर माना जाता है | यहीं पर स्थित भूलभुलैया नामक स्थान भी काफी प्रचलित है |

  • Levitating Stone, Shivapur

Levitating-Stone-of-Shivapur_compressed

Image Credit – daily.indianroots.com

 

मुंबई से लगभग 160 किमी पूर्व में स्थित शिवपुर नामक स्थान जहाँ पर सूफी हज़रत कमर अली की दरगाह है |  दुनिया भर में यह दरगाह अपने आश्चर्य के लिए जानी जाती है | दरगाह पर लगभग 70-80 किलो का एक पत्थर है जिसे कि केवल एक ही प्रकार से उठाया जा सकता है अन्यथा दूसरा कोई तरीका नहीं है | इसके लिए ग्यारह लोगों को अपनी तर्जनी उँगली पत्थर पर रखर जोर से उस सूफी का नाम पुकारना होता है जिनकी यह दरगाह है और पत्थर स्वयं ही हवा में काफी ऊपर उड़ जाता है इसके अलावा आप कोई दूसरे शक्तिशाली तरीके आजमा कर देखलें आप निश्चय ही विफल होंगे |

  • Jwala Ji Mandir, Himachal Pradesh

jwala devi

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में स्थित ज्वाला जी का पवित्र मंदिर है | मंदिर के मध्य में स्थित एक पवित्र पत्थर जोकि पिछले लगभग सौ सालों से भी अधिक से लगातार जलता हुआ आ रहा है वाकई एक आश्चर्यचकित कर देने वाली चीज़ है | लोग प्रतिदिन दूर दूर से हजारों-लाखों कि संख्या में सिर्फ पवित्र ज्वाला के दर्शन करने आते हैं |

  • Shani Shignapur, Ahemadnagar 

 

Shingnapur

महाराष्ट्र में ही शनिदेव के अनेक स्थान हैं, पर अहमदनगर के पास शनि शिंगणापुर का एक अलग ही महत्व है। यहाँ शनि देव हैं, लेकिन मंदिर नहीं है। घर है परंतु दरवाजा नहीं । वृक्ष है लेकिन छाया नहीं । शनि भगवान की स्वयंभू मूर्ति काले रंग की है। 5 फुट 9 इंच ऊँची व 1 फुट 6 इंच चौड़ी यह मूर्ति संगमरमर के एक चबूतरे पर धूप में ही विराजमान है। लगभग तीन हजार जनसंख्या के शनि शिंगणापुर गाँव में किसी भी घर में दरवाजा नहीं है।  कहीं भी कुंडी तथा कड़ी लगाकर ताला नहीं लगाया जाता। इतना ही नहीं, घर में लोग आलीमारी, सूटकेस आदि नहीं रखते। यहाँ पर कभी चोरी नहीं हुई। यहाँ आने वाले भक्त अपने वाहनों में कभी ताला नहीं लगाते। कितना भी बड़ा मेला क्यों न हो, कभी किसी वाहन की चोरी नहीं हुई ।

  • Bullet Baba Temple, Rajasthan

Pali-Motorcycle_temple-04-20131012_compressed

जोधपुर के निकट पाली जिले में एक सुप्रसिद्ध मंदिर जोकि यात्रियों की सुरक्षा के लिए जाना जाता है लेकिन आश्चर्य की बात यह है की इस मंदिर में किसी भगवान या देवी की पूजा नहीं की जाती बल्कि एक मोटरसाइकिल की पूजा की जाती है | एसी श्रद्धा के पीछे का कारण भी काफी हैरान कर देने वाला है | ओम बन्ना नामक व्यक्ति का अपनी मोटरसाइकिल चलाते समय निधन हो गया था | उस दिन के बाद से पुलिस इस बाइक को टो करके ले गई लेकिन अगली सुबह यह बाइक फिर उसी जगह पर खड़ी मिली , इसके बाद उन्होंने इसकी पेट्रोल टंकी खली करली , जंजीरों में जकड़ दिया लेकिन फिर भी हर बार वह बाइक उसी स्थान पर पहुँच जाती | जब प्राधिकारियों ने भी हार मान ली तो लोगों ने उस स्थान पर ही ओम बन्ना की बाइक का मंदिर बना दिया |

  • Jodhpur Sonic Boom

Jodhpurfort_compressed

18 दिसंबर 2012 को जोधपुर के लोगों ने एक बहुत तेज शोर सुना | यह कानों के पर्दों को फाड़ देने वाली एक धमाके जैसी ध्वनि थी | शुरुआत में लोगों ने सोचा कि एयर फोर्स के किसी विमान ने ध्वनि की गति को भी पछाड दिया हो जैसा कि Sonic Boom में होता है | लेकिन वे तब भौचक्के रह गए जब एयरफोर्स द्वारा इस बात की पुष्टि की गयी कि उस समय कोई भी विमान उस क्षेत्र में उड़ान नहीं भर रहा था और न ही कोई बड़ा धमाका आस पास के क्षेत्र में हुआ |  जोधपुर सोनिक-बूम आज तक रहस्य बना हुआ है , क्योकिं उसके बाद पूरे दिसंबर के महीने में विश्व भर में अलग-अलग जगहों ब्रिटेन,अमेरिका, जर्मनी में भी महसूस किया गया |

  • Red Rain, Kerala

drops-of-rain-1327585647DuR_compressed

23 जुलाई से 22 सितम्बर 2001 तक केरल के इदुक्की इलाके में लाल रंग की बरसात हुई | पूरा इलाके के घर, कपडे एवं अन्य सभी चीज़ें लाल हो गयीं | तेज चमकती बिजली और बादलों की जबरदस्त गडगडाहट से वहाँ के लोगों में भय व्याप्त हो गया | वहाँ के लोगों ने बताया कि इससे पहले सन् 1818  में सबसे पहले एसी घटना वहाँ देखी गयी तब से इस जगह का नाम “लाल क्षेत्र ” पड गया | लोगों का मानना है कि यह बरसात ईश्वर द्वारा पापियों के विनाश के लिए होती है , जब निर्दोष लोग मारे जाते हैं और अपराध काफी बढ़ जाता है तो इस प्रकार की बारिश आती है | कई वैज्ञानिकों ने भी इसके पीछे के राज को जानने की कोशिश की लेकिन सबके मत अलग अलग हैं और कोई भी किसी एक कारण की पुष्टि नहीं कर पाया | कुछ का कहना है कि एसी बरसात होने का कारण प्रथ्वी पर जीवन उत्पत्ति के स्रोत हैं | खैर इसका कारण जो भी हो पर वह अभी तक साबित नहीं किया गया है और यहाँ के लोगों के मन में काफी डर बसा हुआ है |

  • UFO Base, Kongka la Pass

ufo_compressed

भारत और चीन के सीमा के मध्य लद्दाख के कोंग्का ला पास जोकि समुद्र तल से लगभग 17000 फीट की ऊँचाई पर है एक रहस्यमयी इलाका माना जाता है | इसका कारण यह है कि इस क्षेत्र में कईयों बार स्थानीय लोगों और यात्रियों द्वारा उड़नतश्तरी (UFOs) देखीं गयीं हैं | वहाँ के स्थानीय लोगों का तो यह तक कहना है कि यह जगह दूसरे गृह के प्राणियों (Aliens) का घर है | लोगों ने यहाँ जमीन से उड़न तश्तरियों को निकलते व वापिस उतरते देखा है | दोनों ही देश की सरकारें कथित तौर पर इससे सचेत हैं और इस क्षेत्र की देखभाल करती हैं लेकिन कोई भी न तो यहाँ पहरा देता हैं और न ही अधिकार करने की कोशिश करता है |

  • Jatinga Bird Suicide

bird suicide_compressed

असम के एक छोटे से गाँव जटिंगा में प्रतिवर्ष मानसून में शाम के समय पक्षियों का झुण्ड आसमान से उतरता है और सारे पक्षी तब तक अपने आप को चोट पहुँचाते हैं जब तक कि तड़प-तड़प के दम न तोड़ दें | पक्षियों की आत्महत्या करने की यह दुखद घटना हर साल सितम्बर-अक्टूबर के महीने में होती है | इसी प्रकार पक्षी अपनी चोंच से खुद को नोंचते अपना सर जमीन पर पटकते व पेड़ों से नीचे गिरते हैं और तब तक ऐसा करते हैं जब तक कि मर न जायें | लोग इसके बारे में तरह तरह के अनुमान लगते हैं परन्तु कोई भी इन घटनाओं के कारण की पुष्टि नहीं कर पाता |

  • Ganga-Brahmaputra Delta

Brahmaputra_River_SPOT_1125_compressed

 

यह भी पढ़ें :   भारत के रहस्यमयी मर्डर केस | Famous Murder Mysteries In India

Barisal Guns और Mistpouffers जैसी अनसुलझी और रहस्यमयी ध्वनियाँ दुनिया भर में चर्चित हैं | ऐसी ही कुछ ध्वनियाँ जैसे कि सोनिक बूम गंगा और ब्रह्मपुत्र नदियों के डेल्टा क्षेत्रों में भी सुनाई देतीं हैं | सुपरसोनिक जेट से उत्पन्न होने वाली ये ध्वनियाँ इन क्षेत्रों में आजकल से नहीं बल्कि उस समय से आती रहीं हैं जब कि हवाई जहाज और यान जैसी चीज़ों का निर्माण भी नही हुआ था | ये आवाजें आज भी सुनाई देती हैं और वैज्ञानिक भी इनके कारण को जानने में लगे हुए हैं |

  • Village Of Twins, Kodhini

kerala twins_compressed

 

केरल राज्य का सुप्रसिद्ध गाँव कोधिनी या फिर उसे “जुड़वाँओं का गाँव” कहें तो गलत नहीं होगा | अगर आप इस गाँव में जायेंगे तो गाँव में पैर रखते ही जिस किसी को भी देखेंगे उसका जुड़वाँ भी आपको दिख ही जायेगा | इस गाँव में लगभग दो सौ ऐसे घर हैं जहां एक जैसे दिखने वाले दो या तीन लोग आपको मिल जायेंगे | और तो और इस गांव की लड़कियों की शादी अगर बाहर किसी से की जाती है तो उसके भी जुड़वाँ बच्चे ही पैदा होते हैं | कुछ वैज्ञानिक इसके पीछे इस गाँव के पानी में मिश्रित किसी भिन्न प्रकार के रसायन को इसका जिम्मेदार मानते हैं |

 

 

  • Shanti Devi’s Reincarnation

shanti devi_compressed

शांति देवी का जन्म दिल्ली में 1930 में हुआ था | चार वर्ष कि उम्र में उसने अपने माता-पिता को अपना असली माता-पिता मानने से इनकार कर दिया | बाद में उसने अपना नाम लुदगी बताया और कहा कि उसका असली परिवार कहीं और ही रहता है और उसकी मृत्यु संतान प्रसव के दौरान हुई थी | मृत्यु से पहले वह अपने पति के साथ रहती थी | इस तथ्य कि सच्चाई जानने के लिए लोगों के काफी कोशिशे कीं और फिर उन्हें पता चला कि वास्तव में लुदगी नामक एक महिला का निधन सन्तान प्रसव के दौरान हो गया था , शन्ति देवी ने अपने पिछले जन्म के पति को पहचान लिया | ख़बरों के मुताबिक़ गांधीजी ने भी इसमें अपनी रूचि दिखाई और शांति देवी से पूछा कि उन्हें मृत्यु के बाद का कुछ याद हो तो बताएं | शन्ति देवी ने बताया कि वे भगवान श्रीकृष्ण से मिली थी | कई वैज्ञानिको और खोजकर्ताओं ने शांति देवी (जोकि बाद में एक समाजसेविका और धर्मप्रचारक रही ) को जीवन भर उनके पुनर्जन्म की यादों के सम्बन्ध में चुनौतियां दीं लेकिन कोई भी उन्हें गलत साबित न कर सका |

  • Prahalad Jani (Mataji)

prahalaad jani_compressed

 

यह भी पढ़ें :   बॉलीवुड में कम आंके जाने वाले 10 बेहतरीन कलाकार (भाग -1) |10 Best Underrated Actors in Bollywood (Part-1)

प्रह्लाद जानी; जोकि माताजी के नाम से भी जाने जाते हैं ने यह दावा किया के वे 1940 से बिना खाने और पानी के जीवित रहे हैं और अम्बे माता ने उन्हें जीवित रखा है | सारे जीवन उन्होंने बस मन्त्रों और अम्बे माता का गुणगान करके जीवन जीया है | 1940 से अब तक दो बार 2003 और 2010 में उनका टेस्ट लिया जा चुका है कि वे सत्य कह रहे हैं या झूठ ? इन टेस्ट के दौरान उन्हें दस दिन तक एक बंद कमरे में रखा गया जिसमें कैमरे वगैरह लहे हुए थे | उन्हे केवल 100ml पानी दिया जाता था मुहँ धोने के लिए , खाना बिलकुल भी नहीं दिया जाता था | अंत में जब जांच की गयी तो उन्हें एकदम स्वस्थ पाया गया | उनका वजन भी मामूली सा घटा, इन्होंने शौच इत्यादि भी नहीं की | आज तक कोई इनके ऐसे दैवीय और रहस्यमयी जीवन से पर्दा नहीं उठा सका है |

 

है ना भारत चमत्कारों और रहस्यों का देश ?

अगर कभी भी आपको मौका मिले इनमें से किसी भी जगह पर जाने का तो मौका गंवाईयेगा नहीं | अगर आपने मौका गंवाया तो आप यकीनन  सबसे मजेदार और रुचिकर पलों को अपनी जिंदगी में आने से रोक देंगे | जो लोग चमत्कारों में यकीन नहीं करते उनके साथ यह शेयर जरूर कीजिये क्योंकि यह पढ़ने के बाद वो आश्चर्य में पड जायेंगे और चमत्कारों पर बिल्कुल यकीन करने लगेंगे |

अगर आप भी ऐसे किसी तथ्य के बारे में जानते हैं तो हमें भी उससे अवगत करायें |