क्या  वेबसाइट बनाने के लिए  HTML/Javascript Programming या कोडिंग Coding की आवश्यकता है ?   अगर आपको लगता है की बिना HTML / Javascript या बिना प्रोग्रामिंग ( Programming ) सीखे वेबसाइट नहीं बनाई जा सकती ,  तो आप गलत हैं | आप बिना प्रोग्रामिंग सीखे न सिर्फ एक अच्छी साईट बना सकते हैं बल्कि उसे बहुत ही आसानी से Manage भी कर सकते हैं |और hindi.tips पर आप जानेंगे कि आप अपनी वेबसाइट आसानी से कैसे बना सकते है और पैसे कैसे कमा सकते हैं |

learn-to-make-website-for-free

यह पोस्ट समय समय पर अपडेट होती रहेगी, इसलिए इसे Bookmark करलें ताकि फिर से ढूँढने में दिक्कत न हो |

 

नीचे वेबसाइट बनाने से सम्बंधित अन्य पोस्ट्स दिये हुए हैं, आप यहाँ से एक एक कर सभी पोस्ट्स को पढ़ लें ताकि आप जल्दी सीख सकें |

Further Reading :

WordPress के लिए :

Blogger के लिये :

 

इस सूची में नयी नयी पोस्ट्स जुड़ती रहेंगी इसलिए इस पेज को बुकमार्क करना न भूलें | बुकमार्क करने के लिये Ctrl + D दबाएँ |

वेबसाइट बनाकर पैसे कमाना शुरू करने से पहले कुछ तैयारी की जरुरत होती है , बिना तैयारी के आपको बाद में बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है | इसलिए पहले से ही हमें कुछ चीजों पर ध्यान देकर चलना होगा |

यह भी पढ़ें :   अपनी पहली पोस्ट कैसे लिखें | How to write your first Post |

वेबसाइट बनाने से पहले कुछ जरूरी चीजें :-

  • सबसे पहले निश्चित कर लें की आप के पास अपना खुद का कंप्यूटर हो , अगर आप साइबर कैफे का इस्तेमाल करने जा रहे हैं, तो पहले ही अपना बजट निर्धारित कर लें |
  • दूसरी चीज , इन्टरनेट पैक |  किसी अच्छे इन्टरनेट पैक का इस्तेमाल करें |
  • तीसरी चीज है वक्त | किसी भी चीज को सीखने में वक्त लगता है , और यह भी अपवाद नहीं है | सीखने में आपको वक्त लगेगा लेकिन यहाँ दिया हुआ एक एक घंटा आपके बाक़ी जीवन के कई कई हफ़्तों से भी ज्यादा कारगर हो सकता है |
  • चौथी और आखिरी चीज है – ” खुद पर भरोसा ” | जब आप शुरुआत करेंगे तो काफी दिन ऐसे आयेंगे जब आपको लगेगा कि यह आपके बस का नहीं है अथवा यह सब समय की बर्बादी है , और यही वह समय होगा जब आप खुद पर भरोसा करेंगे तो ही सफल होंगे |

 

शुरू करने से पहले की तैयारी :-

कुछ अन्य चीजें जो अगर पहले ही देख ली जाएँ तो मददगार होंगी |

  1. नयी ईमेल आईडी :- जब आप वेबसाइट बनाना शुरू करें तब सबसे पहले काम है , नयी ईमेल आईडी बनाना | इस ईमेल आईडी में सारी चीजें सही भरें , जन्मतिथि से लेकर नाम की Spelling तक, क्युकी यही वो ईमेल है जिससे हम पैसे प्राप्त करेंगे तथा साईट को मैनेज करेंगे | इसमें कोई गलती नहीं होनी चाहिए | इसके अलावा एक और चीज , नयी ईमेल आईडी को Gmail पर बनायें , और इसमें ” 2 Step Verification ” चालू करना न भूलें | जिससे कि कोई आपकी आईडी को हैक न कर सके और आपकी साईट को नुकसान न हो |
  2. दूसरा काम है बैंक खाता | अगर आपके पास बैंक खाता नहीं है तो अपने नजदीकी बैंक में जाकर खाता खुलवाएं , आजकल सारे बैंक फ्री में खाता खोलते हैं |
  3. तीसरी चीज है – ” Net Banking ” | जब आप खाता खुलवाएं तब नेट बैंकिंग को शुरू करवाना न भूलें , नेट बैंकिंग के लिए जब ईमेल पुछा जाये तब जो आपने नया ईमेल बनाया है उसे बताएं | अगर आपके पास पहले से बैंक खाता है और नेट बैंकिंग चालू नहीं है तो उसे नयी ईमेल आईडी के माध्यम से शुरू करवाएं |
  4. जब आप इतना सब कर चुके हों तो Paypal पर Sign Up  करना न भूलें |
यह भी पढ़ें :   डोमेन तथा होस्टिंग समझदारी पूर्वक खरीदें और पैसे बचाएं | How to purchase domain and hosting smartly and save money

 

बिना कोडिंग के वेबसाइट कैसे बनाते हैं How can we make a website without coding ?

वेबसाइट बनाने के मुख्यत: दो तरीके हैं –

  • पहला है HTML वेबसाइट , जिसमें कि आपको सारी वेबसाइट की कोडिंग करनी पड़ती है |
  • दूसरा है – CMS ( Content Management System ) जिसमें कि आपको सिर्फ Drag And Drop करना होता है |

हम जिस तरीके से सीखने वाले हैं वो है तरीका नम्बर दो – CMS का तरीका |

अब आप सोच रहे होंगे कि ये CMS क्या होता है ?

CMS का मतलब है Content Management System | यह एक ऐसा Software होता है जिसकी सहायता से वेबसाइट को बनाना , Edit करना , Publish करना तथा वेबसाइट से सम्बंधित अन्य कार्य बड़ी ही सरलता से किये जा सकते हैं | इसका मुख्य उद्देश्य होता है वेबसाइट से सम्बंधित कार्यों को सरल करना | उदा० – Blogger , WordPress etc.

अब भी नहीं समझे , चलिए मैं साधारण भाषा का इस्तेमाल करता हूँ | ऐसा समझें कि आपके पास खेत है , अब आपको उस खेत को जोतना है , अब आपके पास दो रास्ते हैं ,  एक तो यह कि आप फावड़ा उठायें और दिन रात मेहनत करते रहें जैसा कि आज से सौ दो सौ साल पहले होता था | दूसरा यह कि आप एक ट्रेक्टर का बंदोबस्त करें और जो काम फावड़े से हफ़्तों में होता उसे घंटो या मिनटों में निपटा दें | अब इस उदहारण को वेबसाइट से जोडकर देखा जाये तो फावड़े वाला काम तो है खुद प्रोग्रामिंग करके वेबसाइट बनाना और ट्रेक्टर वाला काम है CMS का इस्तेमाल करना| अब जो आपकी मर्जी हो वो चुनें |

ये तो था CMS के बारे थोडा सा विवरण | अब आगे बढते हैं , अब आपको पता है कि आपको CMS का चुनाव करना है , लेकिन यहीं से मुख्य दिक्कत शुरू होती है , शुरू मैं आपको समझ नहीं आता कि कौन सा CMS Platform चुना जाये | चलिए हम आपकी मदद करते हैं इसे चुनने में :

यह भी पढ़ें :   42 विचार जिन पर आप अपनी वेबसाईट बना सकते हैं | 42 Original Ideas For Your Website

अगर आप अपनी पहली वेबसाइट लगभग बिलकुल मुफ्त बनाना चाहते हैं तो आपके लिए Blogger सबसे अच्छा है | अगर आप अपनी वेबसाइट को लेकर संजीदा हैं और इसे लेकर कुछ पैसे खर्च करने को तैयार हैं तो आपके लिए WordPress सर्वश्रेष्ठ है |

TIP :  अगर आप ब्लॉगर का प्रयोग करेंगे तो आपको अपनी वेबसाइट अपने डोमेन ( example.com ) बनाने में लगभग 100 रुपये खर्च करने पड़ेंगे | अगर आप WordPress का प्रयोग करेंगे तो आपको अपनी वेबसाइट अपने डोमेन (example.com) सहित बनाने में लगभग 1200 रुपये साल का खर्चा पड़ेगा |  इस बारे में आने वाली पोस्ट्स में बताया जायेगा |

आइये दोनों पर एक नजर डालते हैं –

WordPress :

  • हर तरह की साईट के लिए उपयोगी |
  • बहुत अधिक Customizable |
  • इस साईट पर प्रयोग हो रहा है ) |
  • Internet की लगभग 25 % वेबसाइट इसका प्रयोग करती हैं |
  • आप अपनी वेबसाइट का सबकुछ अपने हिसाब से निर्धारित कर सकते हैं |
  • इसके लिए आपको डोमेन तथा होस्टिंग खरीदना पड़ता है |
  • हर चीज के लिए मुफ्त Plugins |

Blogger

  • Shopping को छोड़कर सभी तरह की साईट के लिए बहुत ज्यादा आसान या ऐसा कहें कि सबसे आसान |
  • कोई खर्चा नहीं – एकदम मुफ्त
  • हमेशा ऑनलाइन | WordPress में कभी कभी साईट डाउन हो जाती है | इसके साथ ऐसा नहीं है |
  • होस्टिंग खरीदने की कोई आवश्यकता नहीं , आप सिर्फ डोमेन खरीद सकते हैं, अथवा उसके बिना भी काम चल जायेगा |
  • आप Customize नहीं कर सकते | आप अपने हिसाब से चीजों को , नहीं रख सकते | Design करने में भी कई दिक्कतें आती हैं |
  • Plugins नहीं मिलते |
  • example : http://pdfbooks.ourhindi.com

 

अगर आप हमारी बात मानें तो आपको WordPress का चुनाव करना चाहिए | शुरुआत में इसे चलाने में थोड़ी दिक्कतें आ सकती हैं लेकिन लंबे समय के लिए यह फायदेमंद है पर आप अपनी पसंद के हिसाब से किसी का भी प्रयोग कर सकते हैं | हम आपको दोनों के बारे में सिखाएंगे कि कैसे Blogger या WordPress की Design बदलनी है , कैसे Theme लगानी है और भी बहुत कुछ |

अगली पोस्ट में मिलते हैं |