गर्दन दर्द को ठीक करने के उपाय [Tips to Release Pain of Neck]

Fitness Tips Health Lifestyle Tips in Hindi

गर्दन दर्द को ठीक करने के उपाय {Tips to Neck Pain Releif}

आइये जानते हैं गर्दन दर्द (Neck Pain) को ठीक करने के आसान उपाय (Simple Trick)

गर्दन का दर्द आजकल बहुत ही आम समस्या बनती जा रही है। खासकर 16-34 वर्ष की उम्र के युवाओं इसके मामले अधिक बढ़ रहे हैं। इसके लिए स्मार्टफोन (smartphone) या लैपटाॅप (Laptop) का उपयोग करते समय लंबे समय तक गलत पो जको जिम्मेदार माना जाता है। आपको बताते हैं कुछ आसान से उपाय जिससे इसको ठीक करने में मदद मिलेगी, लेकिन पहले जानते हैं इसके कारण:

कारण (Causes):

गलत मुद्रा से गर्दन की मांसपेशियों (muscles)पर दबाव बढ़ने से गर्दन में दर्द हो सकता है। एक अच्छी मुद्रा में सिर गर्दन पर 4.5 से 5.5 किलो का वजन डालता है और गर्दन को 15 डिग्री (Degree) में आगे झुकाने पर यह वजन (weight) दोगुना हो जाता है।

गर्दन का झुकाव (Bend) बढ़ने के साथ गर्दन की मांसपेशियों को और कठिन काम करना पड़ता है और गर्दन के 30 डिग्री एवं 60 डिग्री आगे झुकाने पर इस पर क्रमशः 18 किलो और 27 किलो तक का भार पड़ता है। 60 डिग्री एक ऐसा एंगल है जिस पर पढ़ते या अपने फोन पर चैट करते समय अपनी गर्दन झुकाते हैं।

रीढ़ (Backbone) इस तरह से डिजाइन (Design) है कि सामान्य (Normal) मुद्रा में अपने सिर का वजह संभाल सकें। गर्दन की गलत मुद्रा इस पर पांच गुना अधिक वजन डालती है, जिससे गर्दन, बांह में दर्द पैदा हो जाता है या गर्दन और बांह सुन्न पड़ जाती है।

दर्द  से बचाव

सिर को सीधा रखिए

अपनी रोज की एक्टिविटीज (Activities) के दौरान सही मुद्रा (POSE) बनाए रखकर गले पर दबाव से आसानी से बच सकते हैं।

इलेक्ट्रॉनिक गैजेट (Electronic Gadget) का उपयोग (Use) करते समय और लंबे रास्ते पर चहल-कदमी के लिए निकलते समय सिर को सीधा रखने की आदत डालकर गर्दन दर्द को रोक सकते हैं।

सही मुद्रा के लिए इन बातों का ध्यान रखें

जब बैठे हो उस समय गर्दन और रीढ़ का बाकी हिस्सा सीधा रहना चाहिए। इसका मतलब है कि कान, कंधों पर रहें और कंधे कूल्हों के ऊपर रहें।

शीशे (mirror) में देखकर या फोन या लैपटाप के फ्रंट कैमरे में देखकर बारबार अपनी मुद्रा कि जांच करते रहें। इससे स्वस्थ व् आरामदायक (Relaxation) मुद्रा की आदत बनाने में मदद मिलती है।

कंप्यूटर या लैपटाप पर काम करते समय मॉनीटर आंख (Eyes) के स्तर पर होना चाहिए। स्वस्थ मुद्रा (Healthy Pose) बनाए रखने के लिए एक एरगोनामिक ऑफिस चेयर जिसमें आर्मरेस्ट लगा हो उस पर बैठें।

स्मार्टफोन का अधिक उपयोग करने वाले व्यक्तियों को कान और कंधे के बीच फोन फंसाकर बातचीत करने से बचना चाहिए। यदि उसे लंबी बातचीत करने की जरूरत है तो एक अच्छी गुणवत्ता का फोन उपयोग करना चाहिए।

कंप्यूटर मॉनिटर की तरह ही फोन की स्क्रीन भी लिखते, पढ़ते या वीडियो देखते समय आंख के स्तर पर रखिए। रोल के आकार वाले ऑर्थोपेडिक तकिये का प्रयोग करें जिसे पीठ के बल या करवट लेकर सोते समय गर्दन के वक्र में रखा जा सकता है।

पेट के बल सोने से बचना चाहिए क्योंकि यह रीढ़ की सीध को बिगाड़ता है। लंबे समय तक एक ही मुद्रा बनाए रखना स्वास्थ्य की द्रष्टि से ठीक नहीं होता है। व्यक्ति को इलेक्ट्रॉनिक गैजेट का उपयोग करते समय थोड़ा विराम लेना चाहिए।

कुर्सी से थोड़ी देर के लिए उठें और अंगड़ाई लें। इससे पेशे से जुड़े गर्दन दर्द को रोकने में मदद मिल सकती है।

उपाय:

व्यायाम करने से मांसपेशियों को आराम मिलता है

दोनो हाथों को फेला लें और हथेली को ऊपर कि ओर करें इससे कंधे कि मस्पेशियाँ खिंचेगी जिससे आराम मिलेगा

प्रतिदिन पांच मिनट गर्दन का व्यायाम काफी राहत देता है।

ठोड़ी को गर्दन की ओर ले जाएं मानो सीने को छूने का प्रयास कर रहे हों और फिर धीरे-धीरे इसे ऊपर की तरफ उठाएं। कंधे की तरफ सिर को घुमाएं फिर इसे धीरे से मोड़ें और दूसरे कंधे की ओर ले जाएं। बांह को शरीर की तरफ नीचे रखकर कंधों को सीधा घुमाएं और फिर उल्टी दिशा में घुमाएं।

धन्यवाद

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *