पेस्ट कंट्रोल स्वयं करने के तरीके [Tips for Self doing Pest Control at Home]

Health Human Tips in Hindi

घर में करें स्वयं पेस्ट कंट्रोल

[DIY PEST CONTROL AT HOME]

नियमित रूप से घर की साफ-सफाई से कीड़े-मकोड़े तो कम अवश्य होते हैं परंतु इन का पूरी तरह से सफाया नहीं हो पाता. घर को साफ-सुथरा व् स्वास्थ्यवर्धक रखने के लिए पेस्ट कंट्रोल बहुत ही कारगर तरीका है

बरसात में वातावरण नमीयुक्त (Humidity) होता है जिसकी वजह से हर जगह कीड़े-मकोड़े, फफूंद आदि बहुत ही आसानी से पनपने लगते हैं. ऐसे में घर को साफ (Clean) और स्वास्थ्यवर्धक (Hygine) रखना हर गृहिणी के लिए एक चुनौती भरा काम होता है. घर साफ-सुथरा और कीड़े-मकोड़ों से रहित हो, इस के लिए आवश्यक है कि घर की नियमित तौर पर सफाई हो. आपको बता दें कि कीड़े-मकोड़े गंदगी की वजह से पैदा होते हैं. यही वजह है कि शहरों में गांवों की अपेक्षा कीड़े-मकोड़े अधिक पाए जाते हैं. शहरों में खुले गटर, टूटी पाइपलाइनें, जगह-जगह पानी का जमाव बहुत ही आम बात है. इसलिए वहां कीड़े-मकोड़े बहुत ही तेजी से पनपते हैं. ये कीड़े घर के अन्दर तक आ जाते हैं और बीमारी का कारण बनते हैं. आज आपको कुछ उपाय (Tips) बता रहे हैं जिससे कीड़ेमकोड़ों व उन से होने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है:

उपाय (Tip) 1

रात को बर्तनो को झूठा न छोड़ें. इस से कौकरोच और चींटियों को खाना मिलता है. यदि उन्हें धोने का समय न हो तो एक बड़े बर्तन में साबुन का पानी मिला कर बर्तनों को उस में डुबो दें और किसी चीज से ढक दें.

उपाय (Tip) 2

बचे हुए खाने को फ्रिज (Refrigerator)में रखें या ढक कर ही रखें. खुला बिलकुल न छोड़ें.

उपाय (Tip) 3

कूड़ेदान(Dustbin) हमेशा ढकी हुई होनी चाहिए.

उपाय (Tip) 4

कमरे (Room) के फर्श (Floor) को सप्ताह में 1 से 2 बार साबुन व्  के पानी से साफ करें.

उपाय (Tip) 5

बाथरूम (Bathroom) और किचन (Kitchen) की नियमित सफाई करें.

उपाय (Tip) 6

भीगे कपड़ों को बाथरूम में अधिक देर तक न रखें.

आप चाहें तो पेस्ट कंट्रोल खुद भी कर सकतें हैं. वह हर्बल हो, किसी प्रकार से नुकसानदायक न हो:

विधि: 100 ग्राम बोरिक ऐसिड का पैकेट लें. उस को थोड़े गेहूं के आटे के साथ मिला लें. बाद में 2 चम्मच चीनी अच्छी तरह से मिलाएं. उस की लंबी लोई बनाएं और सिंक के नीचे दरारों और नालियों के पास जहां भी कौकरोच, चींटियां आप को दिखें, वहां डाल दें. इस का कोई साइडइफैक्ट नहीं है. इसे कौकरोच खाते ही मर जाते हैं. यदि घर में छोटा बच्चा, दमे का रोगी या प्रैग्नैंट महिला हो, तब भी यह नुसखा आप अपना सकतें हैं. महीने में 1 बार पेस्ट कंट्रोल करने से आप के घर में कीड़ेमकोड़े पूरी तरह से खत्म हो जाएंगे.

बाथरूम में कीड़ेमकोड़े अधिक होते हैं. वहां पर आप कैरोसिन का स्प्रे भी कर सकतें हैं.

चूहों से बचने के लिए ‘रैट ग्लू बोर्ड’ या पिंजरे का इस्तेमाल करें.

मक्खियों से बचने के लिए आसपास के जमे हुए पानी में कैरोसिन का छिड़काव करें. गमलों के नीचे जमे पानी को 1 सप्ताह से अधिक न रखें. ड्रम के पानी को 2-3 दिन तक ही प्रयोग करें या फिर उसे निकाल दें.

मच्छरों से कई प्रकार की बीमारियां आम हो गई हैं. इन में डेंगू, मलेरिया, कालाज्वर आदि प्रमुख हैं. वैसे तो कई उत्पाद बाजार में उपलब्ध हैं पर उन से आप का घर मच्छरमुक्त नहीं हो सकता, क्योंकि मच्छर, मक्खियां, कौकरोच आदि कुछ दिनों के बाद उस केमिकल के आदी हो जाते हैं, जिस का प्रयोग आप कर रहे हैं. इसलिए खिड़कियों में ‘नेट’ अवश्य लगाएं. शाम 5 बजते ही खिड़कियां व दरवाजे बंदकर दें. आजकल बाजार में बैटरी औपरेटेड या इलैक्ट्रिकल बैट मिलते हैं, जिन के फेरने पर मच्छर मर जाते हैं. सोने से पहले उसे कमरे में अवश्य फेर दें. इस के अलावा ‘सोल पैक बायर इंडिया’ का उत्पाद बाजार में मिलता है, जिसे पानी के साथ मिला कर स्प्रे किया जाता है. इसे दीवारों पर स्प्रे करेंगे तो मच्छर, मक्खी, कौकरोच, छिपकली, मकड़ी आदि सभी से नजात पा सकते हैं. इस स्प्रे से दीवार पर किसी प्रकार का दाग या धब्बा भी नहीं पड़ता. यह एक प्रकार का पाउडर है जो पानी के साथ मिला कर छिड़का जाता है. यह थोड़ा महंगा अवश्य है, पर एक बार करवाने पर 3 महीने तक आप मच्छरमुक्त घर पा सकते हैं.

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *