[ Top 100+ ] Hasya Kavita in Hindi – हास्य कविता हिंदी में

Quotes

टीचर जी!

मत पकड़ो कान।
सरदी से हो रहा जुकाम।।

लिखने की नही मर्जी है।
सेवा में यह अर्जी है।।

ठण्डक से ठिठुरे हैं हाथ।
नहीं दे रहे कुछ भी साथ।।

आसमान में छाए बादल।
भरा हुआ उनमें शीतल जल।।

दया करो हो आप महान।
हमको दो छुट्टी का दान।।

जल्दी है घर जाने की।
गर्म पकोड़ी खाने की।।

जब सूरज उग जाएगा।
समय सुहाना आयेगा।।

तब हम आयेंगे स्कूल।
नहीं करेंगे कुछ भी भूल।।


यह मॉनिटर बन कक्षा के बड़ी शान दिखाते हैं.
क्लास में रौब है बाहर धक्के खाते हैं.

झूठी झूठी शिकायतों से हम सब को पिटवाते हैं,

मीठी मीठी बातों से टीचर जी को बहलाते हैं,

टीचर के ना आने पर खुद शासक बन जाते हैं,

ज़रा सा कुछ बोल दो टीचर से शिकायत करने जाते हैं.

छोटी छोटी बातों का बतंगड़ बनाते हैं.

मैडम इनको जल्दी बदलो हम सब यही चाहते हैं.


अच्छी तरह से अभी पढ़ना न आया

कपड़ों को अपने बदलना न आया

लाद दिए बस्ते हैं भारी-भरकम।

बचपन से दूर बहुत दूर हुए हम।।


अँग्रेजी शब्दों का पढ़ना-पढ़ाना
घर आके दिया हुआ काम निबटाना

होमवर्क करने में फूल जाये दम।
बचपन से दूर बहुत दूर हुए हम।।


देकर के थपकी न माँ मुझे सुलाती
दादी है अब नहीं कहानियाँ सुनाती

बिलख रही कैद बनी, जीवन सरगम।
बचपन से दूर बहुत दूर हुए हम।।


इतने कठिन विषय कि छूटे पसीना
रात-दिन किताबों को घोट-घोट पीना

उस पर भी नम्बर आते हैं बहुत कम।
बचपन से दूर बहुत दूर हुए हम।।


है क्या एक दोस्त आज मैं आपको समझाती हूँ,

दोस्ती के वास्तविक अर्थ से मैं, आपको परिचित कराती हूँ,

पड़ी हो भारी भीड़ या कोई विकट आपत्ति,

साथ न हो जब जीवन में, कोई भी साथी संगी;

ऐसी अवस्था में दोस्त आगे बढ़कर आता है,

भरी विपत्ति से भी, अपने दोस्त को आजाद कराता है,

किसी जाति, धर्म या वंश से उसकी पहचान ना होती है,

उस दोस्त की सच्ची दोस्ती ही एक मिशाल होती है।

हर खूनी रिश्ते से ऊपर होता है औहदा जिसका,

गंगा जल के जैसा पवित्र होता है सच्चे दोस्त का रिश्ता,

बहती रहती है सदा जिसकी निर्मल पवित्र धारा,

होता है वो दोस्त जग में सबसे निराला,

पग-पग पर दोस्ती निभाने के लिए मचलता हो दिल जिसका,

होता है वो दोस्त वास्तव में मन का सच्चा,

ऐसा दोस्त मिलना जग में एक मुकाम पाने के समान है,

थाम लो ऐसे दोस्त का हाथ अगर वो आपके साथ है।।


दोस्ती है अनमोल रत्न;

नहीं तोल सकता जिसे कोई धन,

सच्ची दोस्ती जिसके पास है;

उसके पास दौलत की भरमार है,

न ही जीत न ही कोई हार है,

दोस्त के दिल में तो बस प्यार ही प्यार है।।


भटके जब भी दोस्त संसार के मोहजाल में,

खींच लाता है सच्चा दोस्त उसे अच्छाई के प्रकाश में,

छोड़ देता है जग सारा जब मुश्किल भरी राह में,

सच्चा दोस्त साथ देता है तब जिंदगी की राह में।।


बने चाहे दुश्मन क्यों न जमाना सारा,

सच्चा दोस्त साथ देता है सदा हमारा,

दोस्त के लिए कुर्बान होता है जीवन सारा,

हर मुश्किल में बनता है वो सहारा।।


सच्ची दोस्ती को वक्त परखता हर बार है,

वक्त की हर परीक्षा से हसते हुए

पास करना ही दोस्ती की पहचान है,

दुनिया की किसी शौहरत की न जिसे दरकार है,

सच्चा दोस्त रखने वाला संसार में सबसे धनवान है।।


हम स्कूल रोज हैं जाते.
शिक्षक हमको पाठ पढ़ाते.

दिल बच्चों का कोरा कागज,
उस पर ज्ञान अमिट लिखवाते.

जाति-धर्म पर लड़े न कोई,
करना सबसे प्रेम सिखाते.

हमें सफलता कैसे पानी,
कैसे चढ़ना शिखर बताते.

सच तो ये है स्कूलों में,
अच्छा इक इंसान बनाते.


गुरु आपकी ये अमृत वाणी

हमेशा मुझको याद रहे

जो अच्छा है जो बुरा है

उसकी हम पहचान करे

मार्ग मिले चाहे जैसा भी

उसका हम सम्मान करे

दीप जले या अँगारे हो

पाठ तुम्हारा याद रहे

अच्छाई और बुराई का

जब भी हम चुनाव करे

गुरु आपकी ये अमृत वाणी

हमेशा मुझको याद रहे


शिक्षक है शिक्षा का सागर,

शिक्षक बांटें ज्ञान बराबर,

शिक्षक मंदिर जैसी पूजा,

माता-पिता का नाम है दूजा,

प्यासे को जैसे मिलता पानी,

शिक्षक है वो ही जिंदगानी,

शिक्षक न देखे जात-पात,

शिक्षक न करता पक्ष-पात,

निर्धन हो या हो धनवान,

शिक्षक को सब एक सामान.

शिक्षक माझी नाव किनारा,

शिक्षक डूबते को सहारा,

शिक्षक का सदा ही कहना,

श्रम लगन है सच्चा गहना.


आपकी नयी सुबह इतनी सुहानी हो जाये,

दुखों की सारी बातें आपकी पुरानी हो जायें,

दे जाये इतनी खुशियां यह नया दिन,

कि ख़ुशी भी आपकी दीवानी हो जाये।


जो मुस्कुरा रहा है, उसे दर्द ने पाला होगा..

जो चल रहा है, उसके पाँव में छाला होगा..

बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता, यारों..

जो जलेगा उसी दिये में तो, उजाला होगा.


एक दर्द है जो दिल से जाता नहीं

यही वजह है कि हमें तेरी याद आती है

लो सुबह आ गई, तू रातभर रुलाती रही

बेखुदी में ही ये रात भी कट जाती है.


फूलों की वादियों में हो बसेरा तेरा,

सितारों के आँगन में हो घर तेरा,

दुआ है एक दोस्त की एक दोस्त को,

कि तुझसे भी खूबसूरत हो सवेरा तेरा.


सपनो के जहाँ से अब लौट आऔ,

हुई हे सुबह अब जाग जाओ,

चांद – तारों को अब कह कर अलविदा,

इस नए दिन की खुँशियों मे खो जाओ !


हे! सूर्य देव, मेरे अपनो को

यह पैगाम देना, खुशियों का दिन

हँसी की शाम देना, जब कोई पढे प्यार से

मेरे इस पैगाम को, तो उन को चेहरे पर

प्यारी सी मुस्कान देना।

Pages ( 1 of 4 ): 1 234Next »

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *